Saturday, June 21, 2014

Zindagi

My father remembers a lot of Urdu and Hindi poetry. I love listening to short or long poetry from him. For me, having grown up in Hindi, English and Gujarati world, Urdu represented my father's generation. It represented तहज़ीब, it represented wisdom and elegance. The words, the deep meaning, the way the words flow from your tongue even in a short two line couplet just touches my heart.

Last time when I went and lived with my father in fall-winter of 2012 (he was 82 years old then), I wrote down some of his Hindi and Urdu poems that he often remembers and recites. Today, I wanted to share one of the Hindi poems he remembers from his youth, called ज़िन्दगी (Life).

ज़िन्दगी 
Published on 21st October 1951
Navbharat Times

विश्व में परिवर्तनों का नाम केवल ज़िन्दगी 
रात की इन तड़पनो का नाम केवल ज़िन्दगी 
हो गया थिर जो उसे पाषाण कहना चाहिए 
एक गतिमय जीव को इंसान कहना चाहिए 
जिन विचारो को बदलने की कभी आदत नहीं 
उन विचारो को सदा समशान कहना चाहिए 
शक्तिशाली जीवनो का नाम केवल ज़िन्दगी 

आँख दो टकरा गयी हो जब किसी के लोचनो से 
हो गया हो मुग्ध जो भी रूप के कुछ कंपनो से 
मौन जीवन वाटिका में प्यार के तरुवर तले 
मिल गए हो प्राण जिसको राह में आनेबनो से 
उन मिलन के दो क्षणों का नाम केवल ज़िन्दगी 

कर्म करते है निरंतर पर कभी कहते नहीं 
शीश देते है मगर अपमान को सहते नहीं 
बाँध कर टूटी जिन्हे दीवार कारावास की 
जो गुलामी में किसी के एक पल रहते नहीं 
उन नरो के दर्शनों का नाम केवल ज़िन्दगी 

बंधनो से चाहता है मुक्त होना सब ज़माना 
चाहता हूँ में किसी के लोचनो में घर बनाना 
बंध गया जो दो भुजो के बंधनो में एक पल भी 
चाहता हूं मौन कारावास में जीवन बिताना 
प्यार के इन बंधनो का नाम केवल ज़िन्दगी 

खेल जाते वीरवर हँसते हुए निज प्राण पर 
आंच पर आने नहीं देते कभी सन्मान पर 
शत्रुओं के नाश को संघर्ष में चमकी हो जो 
खौल उठता रिक्त जिनके एक ही एह्वान पर 
तल्वार की उन झुंझुनो का नाम केवल ज़िन्दगी 

जब जवानी रूप में लिपटी हुई गाती हुई 
प्यार पथ पर ठोकरें आती चली खाती हुई 
पायलों की रुंझुनाहट कान में आती है जब 
भाग जाती नींद भी जब रात को आती हुई 
उन नूपुरों की रुंझुनो का नाम केवल ज़िन्दगी

1 comment:

mubarak said...

Hi can i have ur email
Mine is mubarakalnuaimi@gmail.com